Featured post

आशिफ़ा के बलात्कारी पे आक्रोश व्यक्त करती कविता!

बेटियों पे हो रहे अत्याचार पे एक मर्मम कविता!

"मेरा देश आज बदल रहा है"
"मेरा देश आज सुधर रहा है"
"आज आशिफ़ा के मौत पे इंसानियत सबमे उमड़ रहा है"
"मेरा देश आज फिर से बदल रहा है"!

"हुआ था यही नाटक 2012 में"
"जब खेला था दरिंदों ने निर्भया कि आंहो से"
"फिर से वही इंसानियत सबमे उमड़ रहा है"
"मेरा देश आज फिर से बदल रहा है"!

"कहा थी इंसानियत जब आशिफ़ा की चीखों पे सबने मुह मोड़ा था"
" क्या उस वक़्त इंसानियत ने उनका साथ छोड़ा"
" इंसानियत की दौड़ में वो दरिंदा भी दौड़ रहा है"
" मेरा देश आज फिर से बदल रहा है"!

" कह दो उन दरिंदों से किसी दिन उनकी बिटिया भी होगी इस कतार में"
" रोने को ना मिलेगा जगह उन्हे इस पूरे संसार में"
" आज हर बिटिया का पिता उसके दुर्भाग्य पे रो रहा है"
" मेरा देश आज फिर से बदल रहा है"!

" कह रहा है सचिन मिश्रा इन वहसी दरिंदों से"
" बिटिया होंगी तुम्हारी भी डरो उन दिनों से"
" आज सबकी इंसानियत मो…

खुशनसीब थे वो लोग जिनका जन्म 1960 से 1995 में हुआ था

खुशनसीब थे वो लोग जिनका जन्म 1960 से 1995 में हुआ था

हम सभी लोग इस धरती पर जन्म लेकर कई साल बीत चुके होंगे। हमारे सभी लोगों के पास जीवन से जुड़े कुछ अनमोल चीजे, यादें होती है और इनमें से कई यादें हमारे बचपन से जुड़ी होती है। हम सभी लोग हमारे बचपन को हम कभी भी नहीं भूलते। हम सभी लोग बचपन में बहुत खेले कूदे यह हम सभी को मालूम है। कई लोग अपने बचपन की बातें वह कहीं लिखकर रखते हैं तो कई अपने दिमाग में लिखकर रखते हैं।

मुझे अपने बचपन के यादें बहुत अच्छे लगते हैं आपको अगर आप के बचपन के यादे अच्छे लगते हैं तो नीचे कमेंट करके बताना। तो आज हम ऐसे ही उन लोगों के बारे में बताने जा रहे हैं कि जिनका जन्म 1960 से 1995 में हुआ था, तो चलिए जानते हैं।




तो चलिए याद करते हैं कुछ बचपन की बातें :-
1. बात उन दिनों की है जब हम 5-6 साल के थे उस काल में पैसों का चलन होता था। जब 5 से 10 पैसे में हमको वह सारी चीजें मिलती थी जिससे हर बच्चा खुश होता था।



2. सबसे पहले हम उस 5 से 10 पैसों का हम सफेद प्लास्टिक में लिपटी हुई छोटी-छोटी ऑरेंज की टॉफी खरीदते थे और भागते भागते हुए घर आते थे।

3. दूसरी बात याद करते हैं तो वे है पारले-जी चॉकलेट उन दिनों में पारले-जी टॉफी या चॉकलेट बहुत ही फेमस था और हम उन पैसों से पारले-जी टॉफी 50 पैसों में 2 से 4 खरीदते थे।



4. जब मैं छोटा था, शायद दुनिया बहुत बड़ी हुआ करती थी। मुझे याद है मेरे घर से स्कूल तक का वो रास्ता, क्या क्या नहीं था वहां चाट के ठेले, जलेबी की दुकान, बर्फ के गोले, सब कुछ अब वहां मोबाइल शॉप, विडियो पार्लर हैं, फिर भी सब सूना है। शायद अब दुनिया सिमट रही है।

5. चाहे वह डेरी मिल्क, केडबरी या किटकैट जैसे चॉकलेट क्यों ना हो हमें उन दिनों के ही चॉकलेट बहुत ही अच्छे लगते थे। उन दिनों के चॉकलेट में अपनापन महसूस होता था जो आज नहीं होता है। हमारे सारे बच्चे आज डेरी मिल्क, केडबरी या किटकैट जैसे चॉकलेट से ही उन्हें राहत मिलती है क्योंकि यह नया जमाना है।

6. हम सभी लोग स्कूल में जाते थे और स्कूल में बैठते थे लेकिन हमारा मन बाहर की तरफ ही खींचता था। जब स्कूल छूटेगा और हम बर्फ के गोले खाने के लिए कब दौड़ेंगे यही सब हमारे मन में चलता रहता था।



7. जब मैं छोटा था, तब खेल भी अजीब हुआ करते थे। छुपन छुपाई, लंगडी टांग, पोषम पा, कट केक, टिप्पी टीपी टाप,अब internet, office, से फुर्सत ही नहीं मिलती। शायद ज़िन्दगी बदल रही है।



आप अपने बचपन में क्या-क्या खाए, पिए या खेले ये सभी बातें आप हमें कमेंट में बताइए, ताकि हमें भी एहसास हो कि आपको भी बचपन की यादें आती है।

Comments

Popular posts from this blog

देखिए आपका आधार कार्ड कहां कहाँ यूज्ड हुआ है

loading...